प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज रेज आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी सामाजिक सशक्‍ति‍करण के लिए उत्तरदायी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी रेज शिखर सम्मेलन का आज उद्घाटन करेंगे। इलेक्‍ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा नीति आयोग इस वर्चुअल शिखर बैठक का आयोजन कर रहे हैं।  सम्‍मेलन 9 अक्‍तूबर तक चलेगा। इसमें महामारी से निपटने की तैयारियों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का समान लाभ, नवाचारों के डिजिटीकरण को प्रोत्‍साहन, सफल नवाचार के लिए समावेशी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और भागीदारी जैसे विषयों पर विचार विमर्श होगा। “सबका साथ सबका विकास” के लक्ष्य के साथ प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की योजना समावेशी व‍िकास में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का लाभ उठाने की है। प्रधानमंत्री की परिकल्‍पना के अनुसार भारत जल्दी ही विश्‍व स्‍तर पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्षेत्र में न केवल प्रमुख देश के रूप में उभरेगा बल्कि  ऐसे मॉडल के रूप में भी तैयार होगा जो दुनिया को बता सके कि सामाजिक सशक्‍तीकरण के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग पूरी जिम्मेदारी के साथ कैसे किया जाये। इस शिखर सम्मेलन में स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल, कृषि, शिक्षा, स्‍मार्ट परिवहन के अलावा अन्‍य क्षेत्रों में सामाजिक परिवर्तन, समावेशन और सशक्तिकरण पर विचार-विमर्श होगा। दुनियाभर के अनुसंधानकर्ता, नीति निर्माता और विशेषज्ञ इस सम्मेलन में भाग लेगें। सम्मेलन के दौरान, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इससे संबंधित क्षेत्रों में काम करने वाले, कुछ रोचक स्टार्ट-अप के बारे में भी प्रस्तुति दी जाएगी। स्टार्टअप के लिए दुनिया के तीसरे सबसे बेहतर इको सिस्टम, आईआईटी समेत विश्व स्तरीय विज्ञान एवं तकनीकी संस्थानों और हर साल लाखों की संख्या में तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने वाले स्नातकों की बदौलत, भारत आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को विकसित करने में, विश्व की अगुवाई करने में पूरी तरह से सक्षम है। उद्योग विशेषज्ञों का अनुमान है कि 2035 तक, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, भारत की अर्थव्यवस्था के लिए 957 अरब डॉलर आकर्षित कर सकता है।

About Media Watch Editor

Virendra Sharma

View all posts by Media Watch Editor →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *