देश में कोविड महामारी से स्‍वस्‍थ लोगों की संख्‍या दस लाख के पार। स्‍वस्‍थ होने की दर बढ़कर 64 दशमलव चार-चार प्रतिशत हुई।

देश में कोरोना संक्रमण से स्‍वस्‍थ लोगों की संख्‍या दस लाख से अधिक हो चुकी है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अधिकारी ने आज मीडिया को बताया कि डॉक्‍टर, नर्स और अग्रिम पंक्ति में तैनात स्‍वास्‍थ्‍य सेवा कर्मचारियों की निस्‍वार्थ सेवा, समर्पण और प्रतिबद्धता की वजह से ही यह संभव हो पाया है।

देश में कोविड से स्‍वस्‍थ होने का प्रतिशत अप्रैल में सात दशमलव आठ-पांच प्रतिशत था जो आज 64 दशमलव चार-चार प्रतिशत हो गया है। कोविड मरीजों की तुलना में स्‍वस्‍थ लोगों की संख्‍या एक दशमलव नौ गुना अधिक हो चुकी है।

प्रभावी चिकित्‍सा प्रबंधन की वजह से देश में कोविड  मृत्‍यु दर अठारह जून के तीन दशमलव तीन-तीन प्रतिशत से घटकर दो दशमलव दो-एक प्रतिशत रह गई है। जांच सुविधाएं बढाए जाने से 26 से 30 जुलाई तक रोजाना औसतन चार लाख 68 हजार दो सौ 63 नमूनो की जांच की गई। देश में पहली जुलाई तक कुल 88 लाख कोविड नमूनों की जांच हो चुकी थी। इस महीने अब तक लगभग एक करोड नमूनों की जांच की गई। इस तरह देश में अब तक एक करोड इक्‍यासी लाख नमूनों की जांच हो चुकी है। इक्‍कीस राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कोविड मरीजों की संख्‍या दस प्रतिशत से भी कम है। राजस्‍थान, पंजाब, मध्‍य प्रदेश और जम्‍मू-कश्‍मीर में यह पांच प्रतिशत से भी नीचे है।

देश में कोविड मरीजों की तुलना में स्‍वस्‍थ लोगों की संख्‍या लगातार बढ रही है। देश में तैयार कोविड के टीकों के मनुष्‍य पर परीक्षण का पहला और दूसरा चरण चल रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा है कि देश कोविड-19 स्थिति से प्रभावी ढंग से निपट रहा है। कोविड-19 उन्मूलन के लिए सीएसआईआर की विभिन्‍न प्रौद्योगिकी के संग्रह का आज विमोचन करते हुए उन्होंने कहा कि देश ने पिछले 6 महीनों के दौरान कोविड-19 महामारी से सफलता पूर्वक लड़ाई लड़ी है। डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड से स्वस्थ होने की दर में निरंतर वृद्धि और मृत्युदर में गिरावट इस सफलता के कुछ उदाहरण हैं।

आज दुनिया में सबसे बेहतरीन रिकवरी रेट 64 प्रतिशत से ज्यादा और सबसे कम फटेलिटी रेट 2.2 प्रतिशत के करीब भारत का है। एक लबॉरिटी से शुरू की हुई यात्रा को हम 1300 से ज्यादा लबॉटरीज तक पहुंचा चुके हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि देश में अब एक हजार तीन सौ से अधिक प्रयोगशालाओं में कोविड-19 की जांच की जा रही है। करीब चौदह हजार समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र बनाए गए हैं। कोविड महामारी से निपटने के लिए 14 लाख से अधिक बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि भारत विश्व के उन पांच देशों में शामिल है जिन्होंने कोरोना वायरस के विभिन्‍न रूपों को अलग करने में सफलता पाई है। बहुत कम समय में कोविड-19 से निपटने के लिए प्रौद्योगिकी विकसित करने पर वैज्ञानिकों की भूमिका की सराहना करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश में सौ से अधिक प्रौद्योगिकी विकसित की गई है और लोगों के हित के लिए इन्हें विभिन्न उद्योगों को सौंप दिया गया है।

About Media Watch Editor

Virendra Sharma

View all posts by Media Watch Editor →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *